कौड़ी से प्राप्त करें सौभाग्य



गोपाल राजू की पुस्तक 'तंत्रके सरल उपाय' का सार-संक्षेप
अ.प्रा. वैज्ञानिक
सिविल लाइन्स
रुड़की - 247 667

www.bestastrologer4u.blogspot.in






    एक समुद्री जीव के शरीर का ठोस आवरण कौड़ी कहलाता है। एक समय में इसका व्यापक प्रयोग मुद्रा के चलन के रूप में होता था। समय के साथ-साथ मुद्रा का रूप-रंग बदलता चला गया। तीन-चार दशक पूर्व तक इसका चलन चौसर, चौपड़ आदि खेलों में पासे के रूप में खूब होता था। बच्चों  को कौड़ी से खेलते हुए प्रायः देखा जाता था। जीवों के संरक्षण नियमों के कारण धीरे-धीरे कौड़ी आज प्रायः दुर्लभ हो गयी । तंत्र में हो रहे व्यापक प्रयोग के कारण भी अच्छी श्रेणी की कौड़ी की न्यूनता होने लगी। तथापि् सौभाग्य से उच्च श्रेणी की कौड़ियाँ सुलभ हो जाएं तो आप भी सरल उपायों द्वारा लाभ प्राप्त कर सकते हैं। 
1. लाल कपड़े में एक बड़ी पीली कौड़ी बांधकर अपने कैश बॉक्स में रख लें, आशातीत धन लाभ होने लगेगा।
2. सात पीली कौड़ी, सात हल्दी की अखण्डित गांठ एक पीले रंग के कपड़े में बांधकर घर में स्थापित कर लें। वहाँ सदैव प्रेम, स्नेह और सौहाद्रपूर्ण वातावरण बना रहेगा।
3.काले रंग के कपड़े में एक पीली कौड़ी बांधकर अपने शत्रु के घर में दबा दें। वह मित्रवत् व्यवहार करने लगेगा।
4. बच्चा यदि सोते समय डरता है अथवा दुःस्वन के कारण बेचैन रहता है तो उसके सिरहाने एक पीली बड़ी कौड़ी रख दें। दुष्प्रभाव से उसकी रक्षा होगी ।
5. पूर्णिमा की रात्रि में नौ लाल रंग के गुलाब के फूल, नौ पीली बड़ी कौड़ी के साथ एक लाल रंग के कपड़े में बांधकर अपनी दुकान, कार्यस्थल पर रख लें। आप देखेंगे कि आय और व्यय में सन्तुलन होने लगा है।
6. एक काली कौड़ी तथा हरसिंगार वृक्ष की जड़ पीले कपड़े में बन्द करके ताबीज़ की तरह गले में धारण कर लें। ऋण से उऋण होने का यह एक अच्छा उपक्रम सिद्ध होगा।
7. भवन के बनते समय उसके उत्तर तथा पूर्वी कोने की नीव में ग्यारह पीली बड़ी कौड़ी दबा दें। वास्तु दोष जनित दुष्प्रभावों से भवन की रक्षा बनी रहेगी ।
8. लाल कपड़े में 5 पीली बड़ी कौड़ी दीपावली की रात्रि में अपनी पारम्परिक पूजा-मुहूर्त में लक्ष्मी जी के चरणों में रख दें। एक माला मंत्र, 'ऊँ ऐं श्रीं ह्रीं क्लीं'' की जप करें। प्रातः यह पोटली बनाकर अपनी तिजोरी में रख लें। धन लाभ का यह एक अच्छा उपक्रम सिद्ध होगा।
9. भवन निर्माण के समय ग्यारह कौड़ी तथा पांच हल्दी की गांठ एक काले कपड़े में बांधकर भवन के मुख्य द्वार पर लटका दें। नज़र दोष से भवन की रक्षा होगी।
10. एक बड़ी कौड़ी छेदकर के  काले धागे में पिरोकर बच्चे के गले में धारण करवा दें, नज़र दोष से हो रहे दुष्परिणामों से उसकी रक्षा होगी।
11. 5, 7 अथवा 11 कौड़ी अपने वाहन में पीले कपड़े में लपेटकर रख लें, यह पोटली एक सुरक्षा कवच का काम करेगी। 

 
12. लाल कपड़े में ग्यारह कौड़ी लपेटकर अपनी पूजा में स्थापित कर लें। नित्य मंत्र, ''ऊँ श्री महालक्ष्म्यै नमः'' का जप किया करें धन लाभ का यह एक अच्छा उपक्रम सिद्ध होगा।
Gopal Raju